Dear friends,

Indian Agriculture Professionals group (https://www.facebook.com/groups/agribiz4u) currently has crossed 183,000 people and is probably the largest group of professionals connected with agriculture anywhere in the world. This ISAP page at https://www.facebook.com/isapindia.org has more than 180,000 likes. We request all those interested in agriculture/food sector to join at the IAP group mentioned and also like the ISAPindia page at https://www.facebook.com/isapindia.org/.

We welcome farmers, professionals and entrepreneurs from the developed countries (US, Japan, Israel, EU countries etc) to join the platform if they wish to contribute their knowledge and technical expertise to the farming communities in India. Small and Medium Enterprises in the sector and also various agtech/innovative agri startups who do not have a presence in India will find our platform a fertile ground to do quick dipstick surveys for their products and services in India.

We welcome Non Resident Indians/Overseas Citizens of India who are connected with Agriculture on the input/output/throughput side of business or in research into various aspects of Agriculture. We can have a reversal of the brain drain situation that we have seen so far from India in this sector and others.


You can invite your friends and colleagues to join this group by inviting them to join https://www.facebook.com/groups/agribiz4u/ by email. You can also add members by using the "+add people to group" box on the top of the right hand side of the IAP page at https://www.facebook.com/groups/agribiz4u/.

"IAP is a part of the Indian Society of Agribusiness Professionals network". Indian Agriculture Professionals (IAP) is an online platform aimed at enhancing information exchange amongst the Indian Agriculture professionals. To unleash the full power of the network effect for Agribusiness Professionals (Pl see http://en.wikipedia.org/wiki/Network_effect) it is critical for this network to reach a size of 500,000 agribusiness (crop/animal agriculture input/throughput/output) professionals. At that scale this network would, in my opinion, start creating a far bigger online as well as offline impact on the sector as a whole. ISAP already works with over 3,00,000 farming families across India. We encourage these farmers, FPOs, farmer clubs, co-operatives and others to use this platform to speak about their produce, its availability and other details. This platform will help them to reach out to a large no of potential buyers.

On the other hand, we encourage people to post about various products and services that could be used by farmers but we need some details on the innovation in the product and also the impact of the same. Mere photographs and brochures would not suffice.

In both the cases, the IAP platform will just act as an information service to help advertise availability of produce/products/services to a large number of people. Farmers as well as other buyers/sellers are advised to exercise caution, diligence and all possible legal compliance's before doing any commerical transaction with anyone who puts out a post about some product or service on this facebook group.

We also post innovative companies or innovative ideas on this group. The hope is for these ideas to inspire youngsters and others to dream of businesses and innovative enterprises around agriculture.

OUR GOAL is to do anything that it takes to to change the lives of the 600 million odd people who depend partly or fully on agriculture to their livelihoods.

All of us have originated from one or the other of the 600,000 villages that dot the 600 odd districts of India. We are all non-resident villagers. For cohesion in our society and social stability, it is important that farming be a viable and subsequently profitable vocation for all its 600 million odd dependents.

How can you help the Indian farmers?

1. Buy Indian produce-Apples, walnuts, oranges, dry fruits, etc. Buy local produce even if it is at a higher cost.

2. Buy value added agri-food processed products made in India.

3. Do not haggle with the thelawala or any fruit and vegetable vendor who comes to your door. Allow him to make a reasonable profit as his viability/profitability drives ability to pay down the chain upto the farm gate.

4. Pl do not compare prices of vegetables, fruits and other agri products with what you paid for them when you were a child 10/20/30/40/50/60 years ago. You don't do the same when you buy manufactured products and other services. Do not put pressure on your local representatives or through the media when the prices of these products rise. Pl remember that these are rare opportunities for farming families to make decent incomes. For middle classes/upper classes food/agri products are a small percentage of the household spend. Pl bear the increase in prices as your contribution to farmer well-being. The Govt has support systems in place like PDS etc for urban poor.

5. Encourage as many initiatives as possible that buy directly from Indian farmers and supply to Indian households in cities. Your encouragement will grow these small businesses into scalable supply chain entities that would create competition in procurement of farm produce.

6. Please buy produce where possible from KVIC, Farmer Co-operatives. Farmer owned organisations like Amul, Farmer Owned Companies that have started supplying farm products into cities.

7. Please increase consumption of coarse cereals and pulses that are grown by the poorest of dryland farmers across some of the most backward districts of India. These are also having tremendous health benefits as most of you are aware.

8. Buy as much farm produce as possible when you drive out on highways between cities and towns. Your stopping your cars to buy farm produce will encourage more farmers to attempt direct selling to consumers.

9. Each high rise society campus should have a Farmer centre where nearby farmers can come daily and sell F&V and other produce. Consumers in metro cities should should install compact flour milling machines in such centres which will generate employment for farmer kids for managing such centres besides fresh produce. Such farmer centres could/should be proposed in each building society with 100+ families.

10. Upper classes/middle class keen on contributing towards agriculture must be encouraged to form groups and adopt villages to do their bit. They could contribute towards farmers well being by contributing skills as well as donating resources in cash or kind especially to the families that have seen suicides by their bread winners.

11. Farm visits of youngsters especially school kids in urban areas should be organized to build empathy in their minds for farmers and farming from an early age. We don't want to produce generations that think that working with hands and legs on farms is non-noble work being done by lesser beings.

12. You could also help farmers if many of you could follow the practice of the millions of households from Gujarat who buy many seasonal agri products in the flush seasons and consume it over the off season months. This when done at countrywide level can have an effect of price smoothing in commodities between the on season and off season prices. The win for households is good quality purchased at reasonable prices and stored as per desired parameters for household storage.

13. Please save water. 2015-16 was one of the worst droughts on record and hundreds of millions of farmers were affected. Most cities are assured drinking water supply and any wastage in cities is to the detriment of farmer well being. Most farmers are also realising the importance of saving water through micro irrigation as well as creative innovative structures on their farms or on common property resources.

14.We request all those interested in agriculture/food sector to join at the IAP group at https://www.facebook.com/groups/agribiz4u/ and also like the ISAPindia page at https://www.facebook.com/isapindia.org/. Pl invite your friends and colleagues interested in agriculture sector to join this group by inviting them to join https://www.facebook.com/groups/agribiz4u/ by email. You can also add your friends by using the "+add people to group" box on the top of the right hand side of the IAP page at https://www.facebook.com/groups/agribiz4u/

15. We request our Agriculture professionals to use this platform to share success stories of farmers in crop and animal agriculture as well as aquaculture and other products and services which would help other brother farmers also benefit from the good work being done by their brethren in various sub sectors within this vast sector.




About ISAP

ISAP, the parent body of IAP, was also started as an electronic group in 2001. ISAP is a not-for-profit development agency registered under Section 25 of Companies Act. ISAP was set up by a group of Agriculture and Management Professionals with the aim to enhance livelihood opportunities for rural communities.

ISAP has now emerged as one of largest organization working for the promotion of Farmer Producer Organizations (FPOs). ISAP is currently promoting over 250 FPOs comprising about 300,000 farmers around milk, vegetable, pulses, wheat, rice, corn, cotton etc. in Karnataka, Haryana, Madhya Pradesh, Maharashtra, Punjab, Rajasthan and Telangana. ISAP assists these FPOs in Business Planning and Market Integration. ISAP extensively deploy ICT in agriculture extension programs for information exchange and knowledge sharing. ISAP is running a Kisan Call Centre (KCC) in three languages (Hindi, Telugu and Kannada) and a Community Radio Station “Kisan Vani Sironj”. ISAP has developed several animation videos and android based applications for the farmers. ISAP group and page on Facebook and linkedin cater to more than 150,000 professionals on a daily basis with thousands of posts every month and answers to huge no of queries and interactions generated through these platforms.

ISAP also promotes Integrated Farming System (IFS) in its project regions. Idea of introducing IFS is to reduce dependence of farmers on conventional farming system and adding consistent source of revenue. Under IFS, a total resource based convergence is exercised in terms of copping, horticultural activities, animal husbandry and aquaculture so as to deploy resource-based outputs as input for another activity in cyclic manner. Thus, the animal waste and crop waste will be recycled as organic manue; the additional income from allied activities will be converted as input for fodder and fruit/vegetable growing to get daily cash supply and so forth.

ISAP has undertaken vocational skill training and job placement in non-agriculture trades in the states of Orissa, Chattisgarh, Madhya Pradesh and Maharashtra. ISAP has achieved more than 90% score in its rating for MIS for skill training from Ministry of Rural Development. ISAP is also engaged in Entrepreneurship Development Program (EDP) for umemployed agriculture graduates and diploma holders. Under this program, ISAP has trained more than 5000 candidates in 11 States of India and helped to set up more than 1800 successful agriculture based ventures.

ISAP’s interventions cover more than 5000 villages, 100 districts in 18 States of India.



Recognitions and Awards for ISAP

* ISAP receives 'Rashtriya Swayamsiddh Samman 2016' for innovative ICT application in Agriculture 2016 by Jindal Foundation
* ISAP has been conferred 'Agriculture Leadership Award 2015' under the category 'Agriculture Extension' for the Year 2015 BY Agriculture Today.
* Manthan Award 2014 for ISAP's Community Radio Station (CRS) 'Kisan Vani' under category 'Community Broadcasting'
* ISAP's Community Radio Station (CRS) called 'Kisan Vani' was awarded first prize by Ministry of Information and Broadcasting, Government of India in National Community Radio Sammelan 2013
* Sustainable Yield Pledge Awards for Seed cum Fertilizer Drill; Project SHARE was adjudged best project under 'Produce More' category by Missouri House of Representatives
* ISAP won the Manthan Award South Asia 2009 for delivery and dissemination of agriculture information through its Kisan Call Centre initiative.
* ISAP got the National Award on E-governance 2007-08 by Government Of India for ICT Intervention
* ISAP was given a Consultative status with United Nations Economic and Social Council (ECOSOC) in 2006.
* ISAP was a finalist in Stockholm Challenge Awards, 2004
* ISAP was awarded 'the most innovative social enterprise award for 2002' by Digital Partners, USA



प्रिय मित्रों,
इंडियन एग्रीकल्चर प्रोफेशनल्स ग्रुप (https://www.facebook.com/groups/agribiz4u) से वर्तमान में जुड़े लोगों की संख्या 183,000 को पार कर चुकी हैं और ये शायद दुनिया में कहीं भी कृषि के साथ जुड़े पेशेवरों का सबसे बड़ा समूह है । आई.एस.ए.पी के https://www.facebook.com/isapindia.org इस पृष्ठ में 1,80,000 से अधिक लाइक्स हैं | हम उन सभी लोगों से अनुरोध करते हैं जो कृषि / खाद्य क्षेत्र में रुचि रखते हैं की वो आई.ए.पी समूह में शामिल हों और आई.एस.ए.पी इंडिया पेज https://www.facebook.com/isapindia.org/ को भी लाइक करें । आप इस समूह में शामिल होने के लिए अपने मित्रों और सहकर्मियों को ईमेल द्वारा https://www.facebook.com/groups/agribiz4u/ में शामिल होने के लिए आमंत्रित कर सकते हैं | आप https://www.facebook.com/groups/agribiz4u/ पर आई.ए.पी पृष्ठ के दाहिने तरफ लिखे "+add people to group" बॉक्स का उपयोग करके सदस्य जोड़ सकते हैं।

"आई.ए.पी इंडियन सोसाइटी ऑफ़ एग्रीबिजनेस प्रोफेशनल नेटवर्क का एक हिस्सा है"। भारतीय एग्रीकल्चर प्रोफेशनल्स (आईएपी) एक ऑनलाइन मंच है जिसका उद्देश्य भारतीय कृषि पेशेवरों के बीच सूचना विनिमय को बढ़ाने है । एग्रीबिजनेस प्रोफेशनल (प्लान देखें http://en.wikipedia.org/wiki/Network_effect) नेटवर्क के प्रभाव की पूरी ताकत दिखाई देने के लिए इस नेटवर्क में कृषि प्रोफेशनल्स (फसल / पशु कृषि इनपुट / थ्रूपुट / आउटपुट के पेशेवरों) की सदस्यता का 500,000 के आंकड़े तक पहुंचना महत्वपूर्ण है |

इस पैमाने पर यह नेटवर्क, मेरी राय में, संपूर्ण रूप से इस क्षेत्र पर ऑनलाइन और साथ ही ऑफ़लाइन प्रभाव पैदा करना शुरू कर देगा । आई.एस.ए.पी पहले से ही भारत भर में 3,00,000 से अधिक खेती वाले परिवारों के साथ काम करता है । हम इन किसानों, एफपीओ, किसान क्लब, सहकारी समितियों और अन्य लोगों को अपने उत्पाद, उनकी उपलब्धता और अन्य विवरण के बारे में बात करने के लिए इस मंच का उपयोग करने के लिए प्रोत्साहित करते हैं । यह मंच उन संभावित खरीदारों की बड़ी संख्या तक पहुंचने में मदद करेगा । दूसरी ओर, हम लोगों को विभिन्न उत्पादों और सेवाओं के बारे में पोस्ट करने के लिए प्रोत्साहित करते हैं, जिनका उपयोग किसानों द्वारा किया जा सकता है लेकिन हमें इस उत्पाद के नवाचार पर और इसके प्रभाव का भी कुछ विवरण चाहिए । सिर्फ फोटो और ब्रोशर पर्याप्त नहीं होंगे । दोनों मामलों में, आईएपी मंच सिर्फ बड़ी संख्या में लोगों के लिए उत्पाद / उत्पादों / सेवाओं की उपलब्धता का विज्ञापन करने में सहायता के रूप में एक सूचना सेवा के रूप में कार्य करता है ।

किसानों और साथ ही साथ अन्य खरीदारों / विक्रेताओं को इस फेसबुक समूह पर कुछ उत्पाद या सेवा के बारे में पोस्ट करने वाले किसी भी व्यक्ति के साथ कोई भी व्यावसायिक लेनदेन करने से पहले सतर्कता, जाँच और सभी संभव कानूनी अनुपालन करने की सलाह दी जाती है। हम इस समूह पर अभिनव कंपनियों या अभिनव विचारों को भी पोस्ट करते हैं । हमारी आशा है कि इन विचारों के माध्यम से युवाओं और दूसरों को व्यवसायों के सपने और कृषि के आसपास अभिनव उद्यमों को लगाने की प्रेरणा मिलेगी |

हमारा लक्ष्य है की हम 600 मिलियन उन लोगों के जीवन को बदलने के लिए कुछ भी करें जो अपनी आजीविका के लिए आंशिक या पूरी तरह से कृषि पर निर्भर रहते हैं ।
हम सभी एक या किसी दूसरे 600,000 गांवों से उत्पन्न हुए हैं जो भारत के 600 जिलों से हैं । हम सभी गैर-निवासी ग्रामीण हैं हमारे समाज और सामाजिक स्थिरता में एकजुटता के लिए, यह महत्वपूर्ण है कि खेती पर आश्रितों सभी 600 मिलियन के लिए कृषि एक व्यवहार्य और बाद में लाभदायक व्यवसाय हो जाये |

आप भारतीय किसानों की मदद कैसे कर सकते हैं?

1- भारतीय उत्पाद-सेब, अखरोट, संतरे, सूखे फल आदि खरीदें । यहां तक कि स्थानीय प्रोडक्ट खरीदें, भले ही यह उच्च लागत पर हो ।
2- भारत में बने मूल्य वर्धित कृषि खाद्य प्रसंस्कृत उत्पादों को खरीदें |
3- किसी भी ठेलेवाले या किसी भी फल और सब्जी विक्रेता को परेशान न करें जो आपके दरवाजे पर आते हैं । उसे उचित लाभ बनाने की अनुमति दें क्योंकि उसकी व्यवहार्यता / लाभप्रदता खेत तक की श्रृंखला को लाभ देती है ।
4- कृषि उत्पादों जैसे सब्जियों, फलों और अन्य वस्तुओं की कीमतों की तुलना तब के समय से ना करें जब आप 10/20/30/40/50/60 वर्ष पूर्व बच्चे थे | क्यूंकि जब आप विनिर्मित उत्पादों और अन्य सेवाओं को खरीदते हैं तो आप ऐसा नहीं करते हैं | इन उत्पादों की कीमतें बढ़ने पर अपने स्थानीय प्रतिनिधियों या मीडिया के माध्यम से दबाव मत डालें । कृपया याद रखें कि इन परिवारों के पास एक सभ्य आय बनाने का ये दुर्लभ अवसर होता हैं । मध्यम वर्गों / ऊपरी वर्गों के लिए भोजन / कृषि उत्पाद घरेलू के व्यय का एक छोटा प्रतिशत होता है । कृपया किसानों के कल्याण के लिए आपके योगदान के रूप में कीमतों में वृद्धि को सहन करें। शहरी गरीबों के लिए पीडीएस जैसी सरकारों की सहायता प्रणाली है |
5- जितना संभव हो सके उतने प्रयास करें की भारतीय किसानों से सीधे उत्पाद खरीद लें और शहरों में रहने वाले परिवारों को आपूर्ति करें । आपका प्रोत्साहन इन छोटे व्यवसायों को स्केलेबल सप्लाई चेन बनाने और संस्थाओं के रूप में बढने में मदद करेगा जो कि कृषि उत्पादों की खरीद में प्रतिस्पर्धा पैदा करेगा ।
6- कृपया केवीआईसी, किसान सहकारी समितियों से ही जहां तक संभव हो, उत्पाद खरीदें । इसके अलावा किसान स्वामित्व वाली संगठनों जैसे अमुल, किसान स्वामित्व वाली कंपनियां जिन्होंने शहरों में कृषि उत्पादों की आपूर्ति शुरू कर दी है ।
7- कृपया भारत के कुछ सबसे पिछड़े जिलों में सूखे जमीन वाले किसानों द्वारा उगाए गए मोटे अनाज और दालों की खपत में वृद्धि करें । ये भी जबरदस्त स्वास्थ्य लाभ प्रदान करते हैं जो आप में से अधिकांश लोग जानते हैं |
8- जब आप शहरों और कस्बों के बीच राजमार्ग पर बाहर निकलते हैं, तो जितना संभव हो उतना खेत में उगी उपज खरीदें । अपनी कारों को खेतों से सीधे आ रहे उत्पाद को खरीदने के लिए बंद करने से अधिक किसानों को उपभोक्ताओं को प्रत्यक्ष बिक्री का प्रयास करने के लिए प्रोत्साहित किया जा सकता है ।
9- हर हाई राइज सोसाइटी परिसर में एक किसान केंद्र होना चाहिए जहां आसपास के किसान रोज़ाना आ सकते हैं और एफ एंड वी (फल एवम सब्जी) और अन्य उपज बेच सकें । महानगरों के उपभोक्ताओं को ऐसे केंद्रों में कॉम्पैक्ट आटा मिलिंग मशीन स्थापित करनी चाहिए, जो किसानों के लिए नए सिरे से उत्पादन करने वाले किसानों के प्रबंधन के लिए रोजगार मुहैया कराएंगे । इस तरह के किसानों के केंद्र 100 से अधिक परिवारों के साथ प्रत्येक इमारत में प्रस्तावित किए जा सकते हैं ।
10- ऊपरी वर्ग / मध्यम वर्ग को कृषि वर्ग में योगदान करने के लिए समूह बनाने और गांवों को अपना छोटा व्यवसाय करने के लिए प्रोत्साहित किया जाना चाहिए । वे किसानों के लिए कौशल में योगदान दे सकते हैं, साथ ही नकद या विशेष रूप से उन परिवारों को संसाधनों का दान कर योगदान देकर सकते हैं, जिन्होंने अन्नदाताओं द्वारा की गई आत्महत्याएं देखी हैं ।
11- युवाओं के लिए विशेष रूप से शहरी क्षेत्रों में स्कूली बच्चों का फार्म का दौरा किसानों और खेती के लिए उनके दिमाग में कम उम्र से सहानुभूति बनाने के लिए आयोजित किया जाना चाहिए। हम आने वाली पीढ़ियों को एसा नहीं बनाना चाहते हैं जो सोचते हों कि खेतों पर हाथों और पैरों के साथ काम करना गरीब प्राणियों द्वारा किया जा रहा मामूली काम है ।
12- आप किसानों की मदद भी कर सकते हैं यदि आप में से कई गुजरात के लाखों परिवारों के अभ्यास का अनुसरण कर सकते हैं जो फसल के मौसम में कई मौसमी कृषि उत्पाद खरीदते हैं और बे-मौसम में इसका उपभोग करते हैं । यह देश के स्तर पर किया जाने पर, सीज़न और ऑफ सीजन की कीमतों के बीच के कीमतों आने वाले उतार चड़ाव का प्रभावित कर सकता है । उचित कीमतों पर अच्छी गुणवत्ता की खरीदी और घरेलू भंडारण के लिए वांछित मापदंडों के अनुसार संग्रहित है करने से फायदा होगा ।
13- कृपया पानी बचाएं , 2015-16 में रिकॉर्ड है की सबसे खराब सूखे पड़ा था और लाखों किसान प्रभावित हुए थे । अधिकांश शहरों को पीने के पानी की आपूर्ति का आश्वासन दिया जाता है और शहरों में किसी भी अपव्यय की वजह से किसानों की भलाई प्रभाव पड़ता है । अधिकांश किसान सूक्ष्म सिंचाई के साथ-साथ अपने फार्मों पर या आम संपत्ति संसाधनों पर रचनात्मक नवीन संरचनाओं के माध्यम से जल को बचाने के महत्व को भी महसूस कर रहे हैं ।
14- हम उन सभी लोगों से अनुरोध करते हैं जो कृषि / खाद्य क्षेत्र में रुचि रखते हैं की वो आई.ए.पी समूह में शामिल हों और आई.एस.ए.पी इंडिया पेज https://www.facebook.com/isapindia.org/ को भी लाइक करें । आप इस समूह में शामिल होने के लिए अपने मित्रों और सहकर्मियों को ईमेल द्वारा https://www.facebook.com/groups/agribiz4u/ में शामिल होने के लिए आमंत्रित कर सकते हैं | आप https://www.facebook.com/groups/agribiz4u/ पर आई.ए.पी पृष्ठ के दाहिने तरफ लिखे "+add people to group" बॉक्स का उपयोग करके सदस्य जोड़ सकते हैं।
15- हम अपने कृषि पेशेवरों से इस मंच का उपयोग करने का आहवान जिसपर किसानों की सफलता की कहानियों को साझा किया जाये जो फसल, जानवरों और साथ-साथ जलीय कृषि और अन्य उत्पादों और सेवाओं से सम्बंधित हों | जो अन्य किसान भाइयों को भी विभिन्न उप क्षेत्रों में काम करने के लिए प्रेरित होंगे जो एक विशाल क्षेत्र के भीतर है |

आइसेप के बारे में :-

आइसेप, आईएपी द्वारा सृजित एक निकाय है, जो 2001 में एक इलेक्ट्रॉनिक समूह के रूप में शुरू किया गया था । आईएसएपी कंपनी अधिनियम के धारा 25 के तहत पंजीकृत एक गैर-लाभकारी विकासोन्मुखी कंपनी है। आईएसएपी की स्थापना ग्रामीण समुदायों के जीवनयापन के अवसरों को बढ़ाने के उद्देश्य से कृषि और प्रबंधन पेशेवरों के एक समूह द्वारा की गई थी ।

आइसेप अब किसान निर्माता संगठन (एफपीओ) के प्रचार के लिए काम कर रहे कुछ सबसे बड़े संगठनों के रूप में उभरा है । आईएसएपी वर्तमान में कर्नाटक, हरियाणा, मध्य प्रदेश, महाराष्ट्र, पंजाब, राजस्थान और तेलंगाना में दूध, सब्जी, दालों, गेहूं, चावल, मक्का, कपास आदि के लगभग 300,000 किसानों के साथ 250 से अधिक एफपीओ को बढ़ावा दे रहा है ।आइसेप इन एफपीओ को बिजनेस प्लानिंग और मार्केट इंटीग्रेशन में सहायता करता है। आइसेप ने सूचना विस्तार और ज्ञान साझाकरण के लिए कृषि विस्तार कार्यक्रमों में व्यापक रूप से आई.सी.टी का उपयोग किया है । आईएसएपी तीन भाषाओं (हिंदी, तेलगू और कन्नड़) में एक किसान कॉल सेंटर (केसीसी) चल रहा है और एक सामुदायिक रेडियो स्टेशन "किसान वाणी सिरोंज" चला रहा है।

आइसेप ने किसानों के लिए कई एनीमेशन वीडियो और एंड्रॉइड आधारित एप्लीकेशन्स विकसित किए हैं । आइसेप ग्रुप और फेसबुक पर पेज और लिंकिन पर रोजाना हजारों पोस्टों के साथ दैनिक आधार पर 150,000 से अधिक पेशेवरों के साथ इन प्लेटफार्मों के माध्यम से पूछे गए प्रश्नों और इंटरैक्शन के विशाल संख्या के जवाब देते हैं ।

आइसेप अपने परियोजना क्षेत्रों में एकीकृत कृषि प्रणाली (आईएफएस) को भी बढ़ावा देता है । आईएफएस शुरू करने का विचार परंपरागत खेती प्रणाली पर किसानों की निर्भरता को कम करना है और आय का लगातार स्रोत जोड़ना है । आईएफएस के तहत, कुल संसाधन आधारित अभिसरण चक्रीय ढंग से काम करता हैं जिसमें एक कार्य का आउटपुट दुसरे कार्य का इनपुट बन जाता हैं जिसमें बागवानी गतिविधियों, पशुपालन और जलीय कृषि के मामले में प्रयोग किया जाता है ताकि चक्रीय ढंग से एक अन्य गतिविधि के लिए निवेश के रूप में संसाधन-आधारित बनाया जा सके।इस प्रकार, पशु कचरे और फसल कचरे को जैविक खाद के रूप में पुनर्नवीनीकरण किया जाएगा;संबद्ध गतिविधियों से अतिरिक्त आय को चारा और फल / सब्जी के लिए इनपुट के रूप में परिवर्तित किया जाएगा ताकि दैनिक नकदी की आपूर्ति प्राप्त हो सके।

आइसेप ने उड़ीसा, छत्तीसगढ़, मध्य प्रदेश और महाराष्ट्र राज्यों में गैर-कृषि व्यापार में नौकरी और व्यावसायिक कौशल का प्रशिक्षण दिया है। आइसेप ने ग्रामीण विकास मंत्रालय से कौशल प्रशिक्षण के लिए एमआईएस के लिए अपनी रेटिंग में 9 0% से अधिक अंक हासिल किए हैं । आइसेप ने बेरोजगार कृषि स्नातकों और डिप्लोमा धारकों के लिए उद्यमिता विकास कार्यक्रम (ईडीपी) में भी भाग लिया है । इस कार्यक्रम के तहत, आइसेप ने भारत के 11 राज्यों में 5000 से अधिक उम्मीदवारों को प्रशिक्षित किया है और 1800 से अधिक सफल कृषि आधारित उद्यम स्थापित करने में मदद की है ।

आइसेप 5000 से अधिक गांवों को कवर करती हैं जिसमें भारत के 18 राज्यों और 100 जिलों शामिल हैं ।

आईएसएपी के द्वारा अर्जित मान्यता एवम पुरस्कार

- आईएसपी को 2016 में जिंदल फाउंडेशन द्वारा कृषि क्षेत्र में अभिनव आईसीटी आवेदन के लिए 'राष्ट्रीय स्वयंसेवक सम्मान 2016' प्राप्त किया गया।
- आईएसएपी को कृषि 2015 के लिए 'कृषि विस्तार' श्रेणी के तहत 'कृषि नेतृत्व पुरस्कार 2015' प्रदान किया गया है।
- सामुदायिक प्रसारण' श्रेणी के तहत आईएसएपी के सामुदायिक रेडियो स्टेशन (सीआरएस) 'किसान वाणी' के लिए मंथन पुरस्कार 2014
- राष्ट्रीय समुदाय रेडियो सम्मेलन 2013 में भारत सरकार की सूचना और प्रसारण मंत्रालय द्वारा प्रथम पुरस्कार के लिए 'किसान वाणी' नामक आईएसएपी के सामुदायिक रेडियो स्टेशन (सीआरएस) को सम्मानित किया गया।
- बीज सह उर्वरक ड्रिल के लिए सतत पैदावार पुरस्कार; मिसौरी हाउस ऑफ रिप्रेजेंटेटिव्स द्वारा प्रोजेक्ट शेयर 'प्रोड्यूस मोर' श्रेणी के तहत सर्वश्रेष्ठ परियोजना का निर्णय लिया गया
- आईएसएपी ने किसान कॉल सेंटर की पहल के माध्यम से कृषि सूचना के वितरण और प्रसार के लिए दक्षिण एशिया 2009 मंथन पुरस्कार जीता।
- आईएएसटी हस्तक्षेप के लिए भारत सरकार द्वारा भारत सरकार द्वारा ई-शासन 2007-08 पर राष्ट्रीय पुरस्कार मिला
- 2006 में संयुक्त राष्ट्र आर्थिक और सामाजिक परिषद (ईसीओएसओसी) के साथ आईएसएपी को परामर्शदात्री का दर्जा दिया गया था।
- आईएसएपी स्टॉकहोम चैलेंज अवार्ड्स, 2004 में फाइनलिस्ट था
- डिजिटल पार्टनर्स, यूएसए द्वारा आईएसएपी को '2002 के लिए सबसे अभिनव सामाजिक उद्यम पुरस्कार' से सम्मानित किया गया